Thursday, June 3, 2010

पहली--बारिश -कुछ क्षणिकाएं

(1)
बारिश की बूँदें,
पत्तों पर पडीं ऐसे-
प्रसाद की रेबडी,
हथेली पर अम्मा रख देती हैं जैसे ।
(2)
बारिश की पहली फुहार।
कई दिनों के फाकों के बाद ,
रमुआ को मिली ,
पहली पगार।
(3)
लगते हैं ऐसे,
ये छींटे बौछार के।
बोले किसी ने हैं,
दो बोल प्यार के ।
(4)
वह पौधा था अभी तक,
रूठा और मुरझाया।
खिल गया..
बूँदों ने कानों में
कुछ तो कहा ।
(5)
आसमां के धरती को,
स्नेहमय पत्र,
बाँट रहे बादल,
यत्र-तत्र-सर्वत्र ।
(6)
बादलों की डायरी में ,
ऐसी कहानी --
कि प्यासों की भीड है ,
और चुल्लू-भर पानी ।
(7)
तपती धरती पर
बूँदों का असर कुछ ऐसा पडा,
कि भूख से बिलबिलाते बच्चे को ,
रोटी का एक टुकडा ।

3 comments:

  1. यहाँ तो बारिश का नामोनिशान ग़ायब है!
    --
    आपकी ये कविताएँ पढ़कर मन भीज गया!

    ReplyDelete
  2. लगते हैं ऐसे,
    ये छींटे बौछार के।
    बोले किसी ने हैं,
    दो बोल प्यार के ।
    इन पंक्तियों ने बहुत प्रभावित किया । काम्बोज

    ReplyDelete
  3. बादल आते हैं और ठहरते हैं, फिर निकल पड़ते हैं कहीं ओर जाने के लिए...

    बादलों की डायरी में किसी पन्‍ने पर मेरे शहर का नाम भी होगा।

    दीपाली

    ReplyDelete