Sunday, August 21, 2011

मान्या और विहान




नन्हे राजा
नयना बाँके-बाँके
कोटर में से
कोयल के शिशु झाँके
नदी नहायी धूप
चाँदनी फाँके
कितने सारे फूल
भोर ने ,
हर टहनी पर टाँके
लुढक गई है गेंद
रात की काली वाली।
जाने दो,
झुनझुना बजाती
डाली-डाली


मेरी गोदी चाँद सलौना
नही चाहिये और खिलौना
साथ इसी के खेलूँगी मैं,
सौ सौ नखरे झेलूँगी मैं
मेरा राजा भैया है
मेरी जेब रुपैया है ।

8 comments:

  1. श्री कृष्ण जन्माष्टमी की बधाइयाँ!

    ReplyDelete
  2. गिरिजा जी!
    कोइ रूठ गया था चंद खिलौना लेने को और कोइ चाँद सा भैया पाकर खुश है.. बहुत ही प्यारी सी कविता!!

    ReplyDelete
  3. सुंदर रचना...मनोहारी चित्र

    ReplyDelete
  4. वाह बहुत सुन्दर चित्रण किया है।
    कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  5. वाह ! क्या बात है !
    जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  6. बहुत प्यारी कविता है

    ReplyDelete
  7. गुड़िया की छोटी गुड़िया।

    ReplyDelete
  8. बालक मन से लिखी गई रचना। बेहद गुदगुदाने वाली बालसुलभ भावनात्मक कविता।

    ReplyDelete