Tuesday, July 23, 2013

पलायन

कब तक !
आखिर कब तक 
मेरा विश्वास जमा रहता
तुम्हारे दरबार में ।
अंगद के पाँव की तरह ।

शत्रुता निभाने के लिये ही सही ।
तुम्हारे पास तो नही है
रावण जैसी ईमानदारी भी
कि अपना अन्त सुनिश्चित जानते हुए भी
रावण ने युद्ध का मैदान नही छोडा ।
नही किया समर्पण ,संकल्प नही तोडा,
दूत अवध्य था उसके लिये शत्रु का भी
तभी तो अंगद जमाए रहा अपना पाँव
एक वीर के दरबार में 
वीर की ही तरह ।

निभाना उचित है, आसान भी 
शत्रु से शत्रुता और मित्र से मित्रता 
लेकिन पता ही नही चलता कि 
तुम मित्र हो या शत्रु ।
जताते रहे हो 
कभी विश्वास 
तो कभी सन्देह ।
कभी शत्रुता तो कभी स्नेह
मिटाने की लालसा और 
सुरक्षा का भरोसा
भावों के दूत का वध भी
तुम करते ही रहे हो हमेशा
बिना किसी झिझक या ग्लानि के ।

फिर कैसे जमा रह सकता था
मेरा स्नेह और विश्वास
तुम्हारे दरबार में ।
हटा लिये अपने पाँव चुपचाप
बिना कोई दावा किये ।
भला कौन चाहता है यों
छल-बल और धोखे से मरना 


3 comments:

  1. दुविधा की स्थिति बड़ी त्रासदायक होती है !

    ReplyDelete
  2. सही कहा है...जानते हुए भी रावण ने अपना मार्ग नहीं छोड़ा...क्योंकि वहीं मिलने वाले थे राम..पर दुविधा से ग्रस्त मन को इतना भी भरोसा नहीं है...

    ReplyDelete
  3. विश्‍वास की अडिगता को लगा धोखे का धक्‍का निश्‍चय ही अन्‍दर तक पीड़ा देता है।

    ReplyDelete