Wednesday, August 14, 2013

मेरे देश

मेरे देश अटल अविचल प्रिय
तू मेरा विश्वास ।
तुझसे ही है जीवन मेरा 
जाग्रत हैं अहसास ।

रची-बसी हैं मेरी साँसें

तेरे ही कण-कण में ।
तेरी राह चलूँ
अविजित रह 
बाधाओं से रण में 

तम मन धन तुझको अर्पित हैं 

तू मेरा अभिमान ।
तेरे हित जीने मरने में 
है मेरा सम्मान । 

स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभ कामनाएं ।

11 comments:

  1. बहुत सुंदर रचना,,,
    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाए,,,
    RECENT POST: आज़ादी की वर्षगांठ.

    ReplyDelete
  2. अतिसुन्दर ,स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  3. आपके मातृभूमि प्रेम को ह्रदय से नमन।

    ReplyDelete
  4. देश है तो हमारी पहचान है ... नमन है इस भारत भू को ...
    आपको स्वतंत्रता दिवस की बधाई और शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  5. ब्लॉग बुलेटिन की ६०० वीं बुलेटिन कभी खुशी - कभी ग़म: 600 वीं ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  6. मनोहारी भावपूर्ण प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  7. देश प्रेम की इस भावना को सलाम!!
    दीदी! बहुत मिस कर रहा हूँ इस ब्लॉग को.. मगर जैसे ही फुर्सत मिलेगी, सब पढ़ जाउंगा!! बहुत सी क्लास छूट गयी है मेरी!
    :)

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर कविता :)

    ReplyDelete
  9. हार्दिक शुभ कामनाएं ।

    ReplyDelete