Saturday, January 18, 2014

एक याद-- अडतीस वर्ष पुरानी

19 जनवरी 1976 की वह शाम ..। उफ्..बिल्कुल ऐसी ही सर्दी थी । इसी तरह बारिश भी होगई थी। सरसों और गेहूँ की फसल खेतों में खडी नही ,पडी थी । आँगन, गली ,मोहल्ला सब जगह किचपिच.। उन दिनों गाँव में बिजली भी नही थी और बारात ठहरती थी पूरे तीन दिन । आज की तरह नही कि रातभर का धूम धडाका और सुबह सब कुछ सपने जैसा होजाता है । तब तीन दिन गाँवभर में बारात की धूम रहती थी । पहले दिन टीका
,दूसरे दिन बडहार और तीसरे दिन विदा । पहले दिन 'पौरटीका ',भावरें और 'पैर-पखरनी ', दूसरे दिन 'कुँवर-कलेऊ '। 
'कुँवर -कलेऊ ' मण्डप के नीचे दूल्हा और उसके भाइयों का विशेष भोज होता था । विशेष यों कि दूल्हे राजा के लिये कुछ और भी खास व्यंजन बनवाए जाते थे । और फिर दूल्हे-राजा यों ही खाना शुरु नही कर देते थे । खासी खुशामदों और अपनी मनपसन्द माँग पूरी होने या पूरी होने के पक्के आश्वासन के बाद ही निवाला तोडते थे । उधर लडकियाँ दूल्हा के जूते छुपा देतीं और दूल्हा की हठ का बदला लेतीं । लेकिन व्यावहारिक तौर पर तब तो यही होता था कि घरवाले लडकियों को डाँट-डपट कर पाँच दस रुपए ,जबकि एक अठन्नी-चवन्नी भी अपना खासा महत्त्व रखतीं थीं ,दिलवाकर विवाद को खत्म करवा देते थे । लडके वाले लेने के लिये और लडकी वाले केवल देने के लिये ही माने जाते थे । साली-सलहजें चुहल करतीं---"अब दुलहा कैसें जाओगे ,अपनी बहना ऐ दैकें जाओगे..।"
दो दिन तो पूरे गाँव और नाते-रिश्तेदारों आदि सबका खाना होता था । विदा भी  तीसरे दिन दोपहर बाद ही होती थी । 'फेरपटा ','पलकाचार ','धान-बुवाई ','देहरी पूजा 'जैसी कई रस्म। 'पाँव-पखरनी 'और 'पलकाचार 'दोनों रस्में काफी लम्बी होतीं थी क्योंकि पूरे गाँव की औरतें वर-कन्या के पाँव पूजतीं और तिलक करके नारियल-बतासे देतीं । विदा होते-होते दो तो बज ही जाते थे । अब तीन दिन बारात ठहराना कोई आसान काम नही था । वह भी शहरी बारात को । बाराती भी ऐसे जो केवल कपडों से और बोलचाल के तरीके से ही शहरी लगते थे । 
विवाह में विवाद या मतभेद न हो ऐसा तो अक्सर नही होता न । उसपर गाँव में आए हों शहरी बाराती । मेरी शादी में भी कुछ विवाद हुए । कुछ जनवासे की व्यवस्था को लेकर ,कुछ भुकभुकाती गैस लालटेनों के नाम पर ,जिनमें बार बार हवा भरनी पडती थी नही तो रोशनी दिये जैसी होजाती और सबसे ज्यादा खाने में पूडियों को लेकर ।
मुझे याद है काकाजी ने बहुत दिल से खाना बनवाया था । उन दिनों चार-पाँच मिठाई न हों तो शादी की दावत कैसी । दूसरी दो सब्जियों के साथ खट-मिट्ठा 'मैंथीदाना 'भी जरूरी था । कचौरियाँ ,दही बडा ,पापड ,और भी कई चीजें । लेकिन पूडियों पर खूब हंगामा हुआ । 
हालाँकि इसमें न बारातियों का दोष था न 'घरातियों 'का । दरअसल गाँव में तब (अधिकांशतः अब भी) गाँववाले ही खाना पकाते थे । पूडियाँ बेलने का काम भी 'नौतारिनों 'और गाँव की औरतों का ही होता था । सुबह चार बजे ही गाँवभर में नाई--"पुरी बेलने चलो"-की पुकार लगा देता था । औरतें हर समय तो पूडियाँ बेलती नही रहेंगी न ? सो औरतें अपने अपने चकला--बेलन लिये आजातीं और गीत गाते-गाते पूडियों का ढेर लगा कर चली जातीं थीं ।  पूडियाँ सेककर कर बडे बडे कढाहों में पत्तलों में दबाकर रखदी जातीं थीं जो नरम तो रहतीं थीं पर गरम नही । जबकि शहर में तब भी गरम-गरम खाने का ही चलन था । 
हाल यह था कि इधर तो औरतें जेंवनार गा रहीं थी---"जाई री मामचौन ( मेरा पैतृक गाँव) की ऊँची रे अथइयाँ हाँsss, कि हाँss रेss ज्हाँ बैठे समधी करत बडइयाँ हाँ.." और उधर बाराती पत्तलों से पूडियाँ उठाएं ,पटकें ।
"अजीब हैं ये लडके वाले "---गाँववाले भी कह रहे थे---"हमारे यहाँ तो लडकी वाले की कोई गलती भी होती है तो लडके वाले सम्हाल लेते हैं । कहते हैं कि कोई बात नही हमारे घर भी तो बेटियाँ हैं । गलती तो किसी से भी होजाती है पर ऐसे तो ओछापन कोई नही दिखाता ।"
लेकिन मेरे ससुरजी और जेठजी सज्जन थे । इन दो सदाशयों ने ही मुझे पसन्द करके यह रिश्ता पक्का किया था । उन्होंने काकाजी को दिलासा दी ।   
'लेकिन मुझे अपने काकाजी का ,जिनके समाने हर कोई सिर झुकाता था ,यों हाथ जोडकर गिडगिडाना बहुत अखरा । मुझे रोना आगया । क्या लडकी का पिता होना कोई गुनाह है ?
मैंने उस समय सोलह वर्ष पूरे तो कर लिये थे ,ग्यारहवीं कक्षा उत्तीर्ण भी ,लेकिन दुनियादारी की समझ और सूझबूझ के नाम पर पहली पास भी नही थी ( वह तो शायद अब भी ,जिसके बुरे (अच्छे भी ) परिणामों का भी एक इतिहास है )
जब विदा हुई तो मेरी समझ में नही आरहा था कि मैं जीवन के एक बिल्कुल अलग ,अनजाने और दुर्गम मार्ग पर चल पडी हूँ ,जिसके लिये मैं सही मायनों में तैयार भी नही होपाई थी । मैं तो खुश थी कि किसी शहर को पहली बार देख सकूँगी। ग्वालियर का किला जिसके बारे में मैंने किताबों में पढा था अब मेरा घर-आँगन जैसा होगा । मुझे अच्छा लग रहा था कि पालकी में बैठने की मेरी बडी अभिलाषा पूरी होगई । उन दिनों सडक गाँव से तीन कि.मी. दूर थी । गाँव तक कच्ची सडक भी नही बनी थी । बारात की बस तक मुझे पहुँचाने के लिये पालकी मँगवाई गई। गाँव का वह धूल भरा कच्चा रास्ता मुझे बडा भला लगा ।  हालाँकि काकाजी ,जिया ,भाई-बहिन को रोते देख मुझे रोना भी आया । पूरे परिवार से दूर जारही थी । मेरा गाँव , गलियाँ खेत ,नदी ,धरती आकाश सब छूट रहे थे इसलिये मन में ऐंठन सी तो हो रही थी लेकिन मन में पुलक भरा अहसास था कि एक 'नाम' जिसे मैंने साल भर से अपना बिस्तर चादर तक बना रखा था वह साकार रूप में साथ ही उस बस में था । भारी और लम्बे घूँघट के कारण अभी तक चेहरा नही देखा था । तो क्या हुआ ,मन की आँखों से वह दुनिया का सबसे खूबसूरत इन्सान था ..( है ) । 

17 comments:

  1. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति...

    आप सभी लोगो का मैं अपने ब्लॉग पर स्वागत करता हूँ मैंने भी एक ब्लॉग बनाया है मैं चाहता हूँ आप सभी मेरा ब्लॉग पर एक बार आकर सुझाव अवश्य दें...

    From : •٠• Education Portal •٠•
    Latest Post : •٠• General Knowledge 006 •٠•

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति...

    आप सभी लोगो का मैं अपने ब्लॉग पर स्वागत करता हूँ मैंने भी एक ब्लॉग बनाया है मैं चाहता हूँ आप सभी मेरा ब्लॉग पर एक बार आकर सुझाव अवश्य दें...

    From : •٠• Education Portal •٠•
    Latest Post : •٠• General Knowledge 006 •٠•

    ReplyDelete
  3. यादों की राहें सुख देती हैं..

    ReplyDelete
  4. मीठी मीठी यादें ... मन को गुदगुदाती यादें ...
    अतीत को देखना कितना अच्छा लगता है प्रेम की पींगें भरते ...
    बहुत बहुत बधाई और शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद । आपके ब्लाग पर टिप्पणी नही होपाती ।

      Delete
  5. कितनी सुन्दर यादें हैं :-)
    खट्टी-मीठी-कड़वी........सतरंगी सी यादें!!
    बहुत बहुत बधाई आप को और दुनिया के सबसे खूबसूरत इंसान को :-)
    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  6. ये गलियां ये चौबारा यहां आना न दोबारा अब हम तो भए परदेसी कि मेरा यहां कोई नहीं ...........ओ ले जा रंग-बिरंगी यादें, हसंने-गाने की सौगातें अब तुम तो भए परदेसी कि तेरा यहां कोई नहीं।.............................संस्‍मरण पढ़ ये गाना याद आ गया। नववधू की ये दो तरफा मनाकुलाहट कितनी महान होती है!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आने वाली विवाह वर्षगांठ की अनेकों शुभकामनाएं।

      Delete
    2. विवाह के ३८ वें वर्षगांठ की अनेकों शुभकामनाएं बधाई ।

      RECENT POST -: आप इतना यहाँ पर न इतराइये.

      Delete
  7. गिरिजा जी आपका संस्मरण बहुत अच्छा लगा यही तो खट्टी मीठी यादें होती हैं जो जेहन मे ताज़ी रहती हैं ………वैवाहिक वर्षगांठ की हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  8. आप सबका हार्दिक आभार ।

    ReplyDelete
  9. दीदी! अपनी शादी को याद करना वो भी अड़तीस साल बाद और सारे विवरण याद.. हों भी क्यों न एक मील का पत्थर होता है यह पल किसी के भी जीवन में!! कल मैंने भी पच्चीस साल पूरे किए इस साथ के आपके आशीर्वाद से!!
    हमारी शुभकामनाएँ...
    एक और बात याद आ गई.. मेरे गुरुदेव के पी सक्सेना साहब का..
    दूल्हा - दुह ला..
    दुल्हिन - दुह लिहिन!!
    बहुत बदलाव आया है इन परिभाषाओं में.. एक पोस्ट मैंने बहुत पहले लिखी थी शादियों में गालियों की परम्परा पर!!
    फिर से आपको हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  10. आंखों के सामने सजीव हो उठी आपकी शादी.. ऐसा लगा जैसे किसी और जमाने में पहुंच गए हों। अब तो आपको भी ऐसा ही लगता होगा :)

    ReplyDelete
  11. बहुत मधुर यादें हैं आपके विवाह की..पढ़ते पढ़ते सब जैसे साकार हो गया, शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  12. आपका संस्मरण बहुत अच्छा लगा वर्षगांठ की अनेकों शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  13. bahaut hi sundar likha hai maa..

    ReplyDelete
  14. बहुत कुछ है इस रचना के अंदर', पर सबसे पहले तो इतनी गहरी बात को एकदम सटीक तरीके से कहा है और काफी कुछ सोचने को मज़बूर करता है । शायद ये सारी बातें कहीं ना कहीं उत्तरदायी प्रतीत होतीं हैं, आजकल के परिवेश के लिए । कभी-कभी सोच होता है कि हमारे जिंदगी के कंसेप्ट शहरों ने ही खराब कर् दिए, गाँव तो पहले निर्मल और स्वच्छ सोच वाले हुआ करते थे । हालांकि ऐसे शहरी गंवार बेशक दंड के पात्र होते ही हैं ।

    ReplyDelete