Thursday, October 20, 2016

आम आदमी


तंगहाली में ,
ख़्वाहिशों की कमी हूँ
मैं आम आदमी हूँ ।

मैं भीड का एक हिस्सा हूँ
खून से लिखा किस्सा हूँ ।
फुटपाथ पर चलता हूँ
पर कारों तले दलता हूँ ।

दुर्घटना होती है तब
आँकडों में गिना जाता हूँ
मैं केवल  
आदमी के नाम जाना जाता हूँ.

व्यक्तिवाचक नहीं सिर्फ जातिवाचक हूँ
जरूरतों के नाम पर मैं
सिर्फ याचक हूँ ।
अपरिचित हूँ इसलिये
कतराता हूँ उजाले से
दूसरों के मुँह के निवाले से ।

हिसाब में कमजोर हूँ
संतप्त मन का शोर हूँ
नक्कारखाने में जैसे
तूती की आवाज
मेरे हिस्से में
आता नही कभी ताज ।

आगे रहता हूँ नारे लगाने
पर कतार में
सदा पीछे जगह पाता हूँ
अपराधी नही हूँ पर
सजा पाता हूँ ।
निस्संगता के साथ हमेशा
नींव में खपा दिया जाता हूँ
उठती हैँ ऊँची इमारतें मेरी ही पीठ पर
अधिकार नही है मेरा किसी जीत पर ।

मैं शामिल नही हूँ घोटालों में
रिश्वत, दलाली या व्यभिचार के परनालों में
फिर भी परोसा जाता है मेरी थाली में
साम्प्रदायिक जहर ।
कुदरत के कहर
सहने मजबूर हूँ ।
षडयन्त्रों से दूर हूँ ।
पर पीसा जाता हूँ मैं ही
अवरोधों की चक्की में ।
फरेब मक्कार ,दुर्घटना बलात्कार
सबका शिकार ,
सिर्फ मैं ।
किताबें कहतीं हैं
कि सरकार मेरी है
किताबें झूठ कहतीं हैं
हरे भरे पेड को ठूँठ कहतीं हैं ।

आखिरी बस भी छोडकर जाती है
सिर्फ धूल का गुबार
मेरे लिये है सिर्फ इन्तज़ार ।
गर्द से भरा है सपनों का गाँव
धीरज के पाँव
उखड जाते हैं अक्सर 
मयस्सर नही
दो गज जमीन भी 
कही जमने के लिये .
फिर भी कहीं बची हुई नमी हूँ 
मैं आम आदमी हूँ ।

( शीघ्र प्रकाश्य 'अजनबी शहर में' काव्य-संग्रह से )

4 comments:

  1. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि- आपकी इस प्रविष्टि के लिंक की चर्चा कल शनिवार (22-10-2016) के चर्चा मंच "जीने का अन्दाज" {चर्चा अंक- 2503} पर भी होगी!
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. बहुत प्रभावी सटीक और करारा तमाचा ... आज के हालात का यथार्थ चित्रण ... आपने तो मुझे कौलेज के दिनों की याद दिलाया दी जहाँ हम भी सामाजिक चेतना पर इसी तरह की रचनाएँ मंच पर बोला करते थे और ख़ूब वाहवाही लूटते थे ... बहुत लाजवाब ...

    ReplyDelete
  3. सबसे अधिक द्विधायें और उदासीनता आम आदमी के ही हिस्से आती है ,जो जनता कहलाती है और उसी की आड़ ले सब कुछ किया जाता है.

    ReplyDelete