Wednesday, May 9, 2018

सड़कें ..


चौड़ी सड़कें,..
.सड़कों का जाल  
अति व्यस्त... ट्रैफिक से त्रस्त .
वाहनों की बाढ़ की, 
शोर और सन्नाटे की अभ्यस्त
जिन्दगी हो रही है ,  
सड़क जैसी ही .
सड़कों को पार करना कठिन  
उससे भी ज्यादा कठिन तय कर पाना दूरी
अब दिल से दिल तक की .
विलुप्त हो रहा मिलने का चाव  

क्योंकि बीच में फैली हैं लम्म्म्बी .. चौड़ी व्यस्त सड़कें ,
सड़क पार तुम..
इन्तजार रहता है मुझे
शनिवार रविवार का ,
पर नही आते शनिवार इतवार हर हफ्ते .
परस्पर मिलने के लिये ..
कितने सारे काम ..और
बहुत ही बारीक सी दूरियाँ
धीरे धीरे फैल रही हैं सड़क की तरह .
सड़क भारी ट्रैफिक से व्यस्त त्रस्त .
बहुत जरूरी लगने पर ही बनाते हो तुम योजना
आकर मिलने की .
अब असंभव है सोचना भी
सहज ही शाम को
एक साथ बैठकर चाय पीने की बात .

तुम एक अलग दूसरा घर बनाओ
पर न हो वहाँ अपनों के बीच कोई व्यस्त सड़क .
ताकि कल्पना बनकर न रह जाए
सबका एक साथ ,हँसते बोलते हुए
शाम गुजारना बाँटते हुए अपनी उलझनें खुशियाँ
उम्मीदें ..अपेक्षाएं 
जैसा कि होता था
अपने गाँव और छोटे से शहर के 
एक मोहल्ले में .
तुम दौड़कर आजाते थे
एक पुकार पर या ऐसे ही चाहे जब
बिना कोई योजना बनाए .
दूरियाँ ज्यादा डरावनी होजातीं हैं
किसी महानगर में .



2 comments:

  1. महानगर की आपाधापी और संबंधों के मध्य बढ़ती दूरियों को प्रभावशाली ढंग से व्यक्त करती रचना..

    ReplyDelete