Friday, August 30, 2013

कुछ भी नहीं !

नोटों की दुनिया में 
इन्सान कुछ भी नही 
जीना है ,जीने का सामान 
कुछ भी नही !

हर सुबह अखबार
बिखराता आँगन में
ढेरों समस्याएं 
समाधान कुछ भी नही !

सुर्खियों में रहते हैं 
अतिचार ,अनाचार 
शेष है जो आदमी का 
ईमान कुछ भी नही ?

गाँव खेत छोड जबसे 
आगए हैं शहर में 
बेनाम रहते हैं 
पहचान कुछ भी नही ।

रिश्ते बचाना या 
रस्ते बनाना हो
दौड-भाग, भगदड में 
आसान कुछ भी नही ।

सूख गया एक पेड 
चिडियों में शोर है 
तह में हुआ क्या है 
सन्धान कुछ भी नही !

कल से नही लौटी 
माँ-बाप चिन्तित हैं 
बेटी किस हाल में हो 
अनुमान कुछ भी नही ।

आन--मान उम्र भी 
दरिन्दे कब देखते   
औरत है बस ,
आत्म-सम्मान कुछ भी नही !


22 comments:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन मतदान से पहले और मतदान के बाद - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete

  2. आन--मान उम्र भी
    दरिन्दे कब देखते
    औरत है बस ,
    आत्म-सम्मान कुछ भी नही ।
    बहुत उम्दा अभिव्यक्ति
    latest postएक बार फिर आ जाओ कृष्ण।

    ReplyDelete
  3. सच बड़ी ही सहजता से कहा है, पढ़कर बहुत अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  4. बहुत बहुत बढ़िया ...सुन्दर सहज और सरल......

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
    Replies
    1. और बहुत ही सार्थक भी....

      Delete
  5. सूख गया एक पेड
    चिडियों में शोर है
    तह में हुआ क्या है
    सन्धान कुछ भी नही !
    लाजवाब पंक्तियां!

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल - रविवार -01/09/2013 को
    चोर नहीं चोरों के सरदार हैं पीएम ! हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः10 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया आप भी पधारें, सादर .... Darshan jangra

    ReplyDelete
  7. सूख गया एक पेड
    चिडियों में शोर है
    तह में हुआ क्या है
    सन्धान कुछ भी नही !
    ..बेहतरीन! ..अच्छी लगी पूरी रचना।

    ReplyDelete
  8. सूख गया एक पेड
    चिडियों में शोर है
    तह में हुआ क्या है
    सन्धान कुछ भी नही !

    सचमुच आज जीवन कितना सतही हो गया है...

    ReplyDelete
  9. गाँव खेत छोड जबसे
    आगए हैं शहर में
    बेनाम रहते हैं
    पहचान कुछ भी नही ..................आधुनिकता के विद्रूप को कितनी सुन्‍दरता, सहजता और गहराई से पिरोया है आपने कविता में।

    ReplyDelete
  10. कल से नही लौटी
    माँ-बाप चिन्तित हैं
    बेटी किस हाल में हो
    अनुमान कुछ भी नही ।

    आन--मान उम्र भी
    दरिन्दे कब देखते
    औरत है बस ,
    आत्म-सम्मान कुछ भी नही !

    आज की हकीकत ।

    ReplyDelete
  11. hakikat ka bahut hi satik chitran...........

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर प्रस्तुति..
    हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {साप्ताहिक चर्चामंच} पर आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल में दूसरी चर्चा {रविवार} (01-09-2013) को हम-भी-जिद-के-पक्के-है -- हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल चर्चा : अंक-002 को है। कृपया पधारें, आपके विचार मेरे लिए "अमोल" होंगें | आपके नकारत्मक व सकारत्मक विचारों का स्वागत किया जायेगा |
    ---
    सादर ....ललित चाहार

    ReplyDelete
  13. मध्यप्रदेश की भूमि को सलाम.. आज शरद जोशी जी की याद आ गयी... उन्होंने देश के अव्यवस्था पर कहा था कि इस देश में सब कुछ है मगर उसमें वो नहीं है जिसके लिये वो है.. और आज उसी मध्यप्रदेश की भूमि को अपनी इस पूज्य दीदी की इस भावपूर्ण रचना के लिये सलाम करता हूँ..
    शरद जोशी जी का व्यंग्य और आपने जो सवाल उठाये हैं, सच में उनका जवाब कुछ भी नहीं...

    सोचता है हर व्यक्ति
    कैसा ये अन्धेरा है
    देवदूत की आहट
    अनजान - कुछ भी नहीं!

    बहुत सुन्दर!!

    ReplyDelete
  14. भाई ,शरद जोशी जी ने कविताएं भी लिखी हैं ? मैं कितनी अल्पज्ञ हूँ सचमुच । मेरा अध्ययन बेहद सीमित है । मैं तो उन्हें 'जीप पर सवार इल्लियाँ' से ही जानती हूँ । आपने जो पंक्तियाँ दी हैं मैं कभी इस कविता को और शरद जी की अन्य कविताओं को भी जरूर पढना चाहूँगी । खैर आपकी राय रचना का कद जरूर बढा देती है ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. दीदी,
      मैंने तो लिखा ही है कि वे व्यंग्यकार थे.. आपको ऐसा क्यों लगा कि मैंने उन्हें कवि के रूप में उद्धृत किया है!! मेरी अभिव्यक्ति में कमी रही होगी! :)

      Delete
  15. नही भाई आपकी अभिव्यक्ति में कही कोई कमी नही । मैं ही नही समझी । मुझे लगा कि उद्धृत पंक्तियाँ शरदजी की हैं जिनसे मेरी कविता काफी मिल रही है । अगर अब सही समझी हूँ तो ये पंक्तियाँ आपकी हैं । क्योंकि आप तो अच्छी खासी कविता लिखते ही हैं । मैं कुछ जल्दबाजी करती हूँ समझने में इसलिये....।

    ReplyDelete
  16. रिश्ते बचाना या
    रस्ते बनाना हो
    दौड-भाग, भगदड में
    आसान कुछ भी नही ...

    सहज ही कह दिया जीवन का सत्य ... आसान तो कुछ भी नहीं होता ... परिश्रम, इमानदारी दोनों ही जरूरी हैं रिश्ते औए रास्ते बनाने में ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल पर आज की चर्चा मैं रह गया अकेला ..... - हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल - अंकः003 में हम आपका सह्य दिल से स्वागत करते है। कृपया आप भी पधारें, आपके विचार मेरे लिए "अमोल" होंगें | सादर ....ललित चाहार

      Delete
  17. हकीकत है आज की :(
    हर पंक्ति में कितना सच है!

    ReplyDelete
  18. बहुत सुन्दर प्रस्तुति..
    आपने लिखा....हमने पढ़ा....
    और आप भी पढ़ें; ... मैं रह गया अकेला ..... - हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल - अंकः003 हम आपका सह्य दिल से स्वागत करते है। कृपया आप भी पधारें, आपके विचार मेरे लिए "अमोल" होंगें | सादर ....ललित चाहार

    ReplyDelete
  19. एकदम सीदे सादे शब्दों में सुन्दर विचारशील रचना ----क्या कहने ---

    ReplyDelete