Monday, May 18, 2015

चार राहें

(छठवीं पुण्य-तिथि पर )
पिछले प्रसंगों में काकाजी के अध्यापकीय-कौशल के साथ उनकी कुछ और भी खूबियों का उल्लेख किया गया है जैसे उन्हें ऐलोपैथी  और खासतौरपर आयुर्वेद पद्धति से काफी अच्छी तरह इलाज करना आता था .वे नाड़ी देखकर बता देते थे कि रोगी का वात कुपित है  है या पित्त .उसी के अनुसार दवाएं देते थे .
भादों-क्वार के महीनों में जब गाँवों में मलेरिया ,फैलता था तब काकाजी को मरीजों से दो पल की भी फुरसत नही मिलती थी और खास बात यह कि घर में एक एक पैसे के लिये लम्बी-चौड़ी नसीहतें देने वाले काकाजी इतना परिश्रम अर्थोपार्जन के लिये नही अपने मन की सन्तुष्टि के लिये करते थे . वस्तव में जहाँ पेट के लाले पड़े हों वहाँ डाक्टर की फीस की बात तो दूर ,लोगों के पास दवा के दाम भी नही होते थे . अर्थोपार्जन भला क्या होता पर काकाजी पूरी जिम्मेदारी के साथ उनका इलाज करते थे . प्रसंगवश कहना होगा कि गाँवों में बीमारी और इलाज के साथ एक नाम जुड़ा होता है 'झोलाछाप' डाक्टर जो योग्यता व वैधता के दायरे से बाहर माना जाता है .निस्सन्देह कोई ज्ञान व अनुभव न होने पर भी पैसा कमाने के लिये मरीजों के जीवन से खिलवाड़ गलत है लेकिन यह भी सच है जिसे मैंने काफी करीब से जाना है कि जब कोई बीमारी फैलती है या कुसमय किसी की हालत बिगड़ती है तब वहाँ ये 'झोलाछाप' ही एकमात्र सम्बल होते हैं . क्योंकि डिग्रीधारी डाक्टर तो वहाँ होते ही नही हैं .इनमें बेशक कई काफी अनुभवी और कुशल भी होते हैं .खैर....
काकाजी की गायन में गहरी रुचि थी .वे काफी अच्छा गाते भी थे .अभिनय का उल्लेख भी मैंने होली  में किया है . इनके अलावा काकाजी कविताएं भी लिखते थे .समय-समय पर कवित्त लिखकर लोगों को सुनाया करते थे. मुझे याद है कि जब मैं तीसरी-चौथी कक्षा में थी , उनकी 'गणतन्त्र-दिवस' नामक लम्बी कविता किसी स्थानीय प्रेस से छोटी सी पुस्तक के रूप में प्रकाशित हुई थी और जिसने पढ़ी काफी सराही भी .दुर्भाग्य से अब वह कविता अप्राप्य है . बस उसकी प्रारंभिक पंक्तियाँ ही याद रह गईं हैं जो नीचे दी हुई है .
उन दिनों जब हम उन्हें बेहद पीड़ा और हताशा के साथ जीवन की शाम की ओर बढ़ते हुए देख रहे थे ,स्मृति लगभग जा चुकी थी ,एक दिन उन्होंने मेरा हाथ पकड़कर जर्जर सी आवाज में कहा--बेटी मेरी कविताओं की किताब बनवा दे तो आनन्द आजाए . मुझे आश्चर्य हुआ .जिन्होंने अपनी रचनाओं को सम्हालकर रखना तक जरूरी नही समझा वे कविताओं के संग्रह की माँग कर रहे थे . संग्रह कहाँ से बनता . उनके सृजन को किसी ने क्या खुद उन्होंने कभी गंभीरता से नही लिया . जब लिया तब हाथ में कुछ नही था क्योंकि वे कविताओं को लिपिबद्ध नही करते थे .कुछ को किया पर वे भी अधिकांश रचनाएं नष्ट होगईं थीं .फिर भी मुझे लगा कि जैसे भी हो काकाजी की यह इच्छा पूरी होनी चाहिये...उनकी किताबें खंगालने के बाद मुझे कुछ कविताएं मिल गईं .परिवार-नियोजन हेतु लिखी जिस लम्बी कविता पर उन्हें चिकित्सा-विभाग से पुरस्कार मिला था उसके सहित बीस-पच्चीस कविताएं इकट्ठी होगईं .उन्हें एक प्रिंटर ने टाइप कर एक जिल्द में बाँध दिया .यह काम सिर्फ चार दिनों में हुआ .
जाने के दो-चार दिन ही पहले 'काव्य-कुसुमांजलि' (यह नाम उन्होंने ही दिया था . कुसुम माँ का नाम है )को हाथ में लेकर काकाजी ने सजल आँखों से मेरे सिर पर हाथ फेरा .मेरा दिल भर आया .काश काकाजी की इच्छा को पहले जान पाती तो कण्ठस्थ रचनाओं को लिपिबद्ध कर पाती और पुस्तक सुन्दर कलेवर में आ पाती .
काकाजी ने कला को सृजन की नही केवल स्वयं के आनन्द की वस्तु माना . यह सच है कि एक दिशा और एक राह के साथ लगन और परिश्रम ही किसी को एक विशिष्ट स्थान तक ले जाता है .लेकिन काकाजी ने विशेष जैसा कभी कुछ नही सोचा .जो कुछ उन्हें सहज प्राप्त था उसी में पूर्ण सन्तुष्ट रहे .यहाँ सन् 1960-65 में लिखी गईं (जैसा कि उनकी डायरी में लिखा था) उनकी कुछ कविताएं हैं जो काकाजी को भले ही कोई बड़ा रचनाकार सिद्ध न करतीं हों लेकिन उनके अन्दर एक अच्छे रचनाकार के बीज होने का विश्वास निस्सन्देह करातीं हैं .
(1) मानव
तू खुद को पहचान न पाया .
भूमण्डल के कण-कण में , तेरी ही माया बिखरी है .
महारथी भी तुझसे प्रेरित ,सर्जन की काया निखरी है .
तेरे कलापूर्ण हाथों से पाहन भी ईश्वर कहलाया .तू खुद को....
सदियों से पीड़ित मानवता का तूने उद्धार किया है .
सत्य अहिंसा और धर्म से पापों का संहार किया है .
कोटि कोटि कंठों से जय थी ,जब तू कपिलवस्तु में आया . तू खुद को....
अखिल सृष्टि ने संघर्षों से तुझे न पीछे हटते देखा.
अतीत के पन्नों में भरा पड़ा है ,तेरे श्रम का लेखा .
स्वाभिमान का गौरव सबको हल्दीघाटी ने बतलाया . तू खुद को..
पृष्ठ खोल इतिहास पढ़ो भी , कैसी थी भारत की नारी .
जीवन का बलिदान किया ,मानुसी कहाँ ,वह थी अवतारी .
राजवंश का दीप बचाने जिसने अपना लाल गँवाया . तू उसको ...
सुख-सुविधा धन-वसन छोड़ ,उस तपसी ने जो अलख जगाया.
उसकी दी चिनगारी ने ही भारत को आजाद कराया .
गया फिरंगी और तिरंगा खुली हवाओं में लहराया . तू खुद को ...
(2) राही
जीवन-पथ पर बढ़ता जा तू ओ मतवाले राही .
छोड़ निराशा की दुनिया को ,यह संसार असार नही है
होगा वही जिसे तू चाहे कर्मवीर की हार नही है.
ना निराश हो बाधाओं से तू है अपना आप सहाई .  
जीवन पथ पर...
तू असीम क्षमता का सागर , तूफानों की राह मोड़दे
बिखर रही भावों की माला ,अपनेपन से ङसे जोड़दे .
संघर्षों के कंटक वन में भी हँसता जा वीर सिपाही .
जीवन-पथ पर ....
सत्य धर्म ईमान न्याय का ,जन मन में विश्वास जगादे .
दंभ द्वेष पाखण्ड कपट और भेद-भाव को आज मिटादे .
तेरे सारे सत्कर्मों की ,देगा पूरा विश्व गवाही ..( कविता लम्बी है )  (3) प्रेम
लुट जाने मिटजाने जीवन ,किसने जग में प्रेम बनाया
प्रबल उमंग प्रेम की लेकर ,दीपक पर पतंग आता है .
हृदय-व्यथा से व्याकुल होता रूप-अग्नि में जल जाता है .
दीपक फिर भी समझ न पाता , क्यों उसने जौहर अपनाया .
सारे जग में फैल रही है ,उस चातक की प्रेम कहानी .
जिसको अटल भरोसा रहता ,बादल बरसावेंगे पानी .
बूँद-बूँद की करे प्रतीक्षा ,निरमोही को ध्यान न आया....( आगे भी है )  
 (4) गणतन्त्र-दिवस
आजादी की एक लहर जब झाँसी में आई .
स्वतन्त्रता का रूप लक्ष्मीबाई बन आई .
हुई न्यौछावर मतवाली ,
आजादी की नीव  उसी ने भारत में डाली .
गीत हम उसके गावेंगे ,
आओ मिलकर आज दिवस-गणतन्त्र मनावेंगे .
(2)
आजादी की भरी उमंगें वीरों के मन में .
निकल पड़ी वीरों की टोली स्वतन्त्रता रण में .
नही मरने से वे अटके ,
करने देश स्वतन्त्र खुशी से फाँसी पर लटके .
उन्ही की याद दिलावेंगे ,
आओ मिलकर आज दिवस-गणतन्त्र मनावेंगे .
(3) आगे बढ़ते जाने को वीरों का मन पक्का .
आन्दोलन से लगा विदेशी शासन को धक्का .
नाव अंग्रेजों की डूबी ,
बोस ,भगत और गान्धी जैसे वीरों की खूबी
उन्ही का यश हम गावेंगे .
आओ मिलकर आज दिवस-गणतन्त्र मनावेंगे .....  
यह कविता आगे संविधान-निर्माण और उसके लागू होने तक थी लेकिन काफी कोशिश करने के बाद स्मृति में इतनी ही आ सकी
( 19 मई 2015)

5 comments:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, रावण का ज्ञान - ब्लॉग बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  2. काकाजी को विनम्र श्रद्धांजलि ! आशा और विश्वास भरे उनके शब्द धरोहर के रूप में आपको मिले हैं, उनके ही संस्कार आपके भीतर लेखन कला के रूप में पल्लवित हो रहे हैं.

    ReplyDelete
  3. परम आदरणीय काकाजी के शब्दों को पढ़ पाना हमारा सौभाग्य रहा।
    उन्हें मेरी विनम्र आदरांजलि सहित आपका आभार हमसे ये रचनाएँ बाँटने के लिए
    बढ़िया प्रस्तुति आदरणीया ।

    ReplyDelete
  4. काका जी की जो धरोहर आपको मिली है वो अनमोल है ... ये तो हमारा सौभाग्य है जो उन्हें पढ़ पा रहे हैं हम ... मेरी विनम्र श्रधांजलि है उन्हें ...

    ReplyDelete