Saturday, April 3, 2021

तुम अतुलनीया

जिया की याद में --

 

नफरत को अनदेखा करके
मन में रखना
केवल स्नेह को ,
प्रतिशोध व ईर्ष्या की जगह 
रोपना--- वात्सल्य ..प्रेम , ममत्व
और ,
कटुता को भुलाकर
खोजना माधुर्य को,
हर  जगह...
यह तुम्हारी दृष्टि थी माँ ।
जब हम तुम्हारी तरह से सोचते थे
तब कितना आसान था सब कुछ ।
सब कुछ माने--
कुछ भी मुश्किल नही था , 
कुछ भी...
जब से हम अपनी तरह सोचने लगे हैं
सन्देह व अविश्वास लग गया है हमारे साथ ।
हमें दिखते हैं केवल दोष ,अभाव
महसूस होते हैं ,
अपनों में  छल और दुराव
मन होगया है ,
गर्मियों वाले नाले की तरह ।
कद-काठी से छोटे दुशाले की तरह ।
अब समझ में आया है कि
हमारे आसपास क्यों है इतनी अशान्ति
श्रान्ति और क्लान्ति
और यह  भी कि ,
क्यों तुम्हें
अतुलनीया कहा जाता है माँ !


14 comments:

  1. बहुत सुंदर भाव । माँ के सामने भला कौन टिक आया है ।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर लिखा गिरिजा दीदी ....माँ का तो मुकाबला ही नहीं हो सकता🙏🏻

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत स्नेह के साथ धन्यवाद ब्लाग पर आने के लिये

      Delete
  3. बहुत सुन्दर् और सशक्त।
    माँ को नमन।

    ReplyDelete
  4. माँ को शत शत नमन !

    ReplyDelete
  5. सच में ,मां के लिए इससे अच्छे भाव व्यक्त नहीं किए जा सकते 🙏

    ReplyDelete
  6. जिया की स्मृति को ऐसे शब्द देना और उनकी सीख को इस तरह याद करना, सचमुच अतुलनीय है दीदी! वे जहाँ भी हों, आपको आशीष दे रही होंगीं! मेरा भी सादर प्रणाम जिया को!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत सुकून मिलता है आपके शब्दों से

      Delete